अपने अधिकारों के लिए जागरूक रहें, ध्यान दें अधिकारी और नेता लोक सेवक हैं, इन्हें हम पर आदेश चलाने का कोई अधिकार नहीं है.

Website templates

१.५१ लाख की कुश्ती ड्रा

>> Thursday, 15 January 2009

                                                  ज़ोर आजमाइश करते दो पहलवान

                                 दंगल आयोजक हँसीन खान के साथ भारत केसरी जगदीश पहलवान और गुलाम साबिर पहलवान

लहरपुर-सीतापुर
अखिल भारतीय दंगल प्रतियोगिता के अन्तिम दिन को १.५१ लाख के कुश्ती  भारत केसरी मास्टर चन्दगी राम के सुपुत्र जगदीश पहलवान और मेरठ के गुलाम साबिर पहलवान के बीच हुई। जिसमे कुश्ती   के एक से एक से बढ़कर एक दांव  देखने को मिले। एक अन्य ३०००० की कुश्ती   सुरजीत पहलवान पंजाब और अशोक पहलवान दिल्ली  के मध्य हुए। ये कुश्ती  इतने शानदार थी की पहलवानों को हटाने के लिए पुलीच का सहारा लेना पड़ा। जनता के बेहद मांग पर बाबा बजरंगी की २ कुश्ती  हुए जिसमे बाबा ने अभिमुं कानपूर और गोविन्द दिल्ली   को हरा कर विजय हासिल की। बाबा और गोविन्द की कुश्ती   काफी अच्छी हुई । ज्ञात हो के बाबा को लहरपुर का पूरा समर्थन  प्राप्त है। बाबा जब कुश्ती  के लिए अखाड़े  में जाता है तो सभी और से बाबा-बाबा के आवाजे आती है। बाबा अपने जीते पैसे के एक अनाथ आश्रम कुरुक्षेत्र में चलाते है। जिसमे ४०० बच्चे रहते है। बाबा ने अपने कुश्ती  से सबका मन मोह लिया। संजय गाजीपुर, वसीम मोहम्मदाबाद, राजू गाजीपुर संजय गाजीपुर आदि विजयी रहे। महिला कुश्ती  में मंजीत ने उपेन्द्र को और सुनीता ने रूपेंद्र को पराजित किया। दंगल के समापन पर हसीं खान ने कहा की दंगल कराना लहरपुर के प्राचीन परम्परा रही है। उसे परम्परा को हमने जीवित रखा है। आयोजक चाँद खान ने १५-१-२००९ को रात्रि में रंगा रंग कार्यक्रम   करने का एलान किया है। 

0 टिप्पणियाँ:

About This Blog

  © Free Blogger Templates Skyblue by Ourblogtemplates.com 2008

Back to TOP